Author: mygynaec

गर्भाशय की संरचनात्मक विकृतियां और टेस्ट ट्यूब बेबी की सफलता -क्या इनका कोई सम्बन्ध है -अगर है तो क्या करें ,क्या ना करें

गर्भाशय की संरचनात्मक विकृतियां और टेस्ट ट्यूब बेबी की सफलता  -क्या इनका कोई सम्बन्ध है -अगर है तो क्या करें ,क्या ना करें 

 

गर्भाशय की संरचनात्मक विकृतियां-परिभाषा 
 
यह विकृतियां या तो जन्मजात हो सकती हैं या फिर समय के चलते बाद में गर्भाशय में उत्त्पन्न हो गयी हो सकती हैं।
न विकृतियों से होने वाली प्रमुख समस्याएं 
 
1) Primary Amenorrhoea – इसका मतलब है की इस युवती को महावारी यानि कि periods कभी शुरू ही नहीं हुए।
2) Dysmenorrhoea –  महावारी के समय पेट के निचले भाग में (पेड़ू ) में दर्द होना।
3) Infertility – बंधत्व -गर्भ का ना ठहर पाना।
4) Recurrent Pregnancy Loss -बार -बार अकस्मात् गर्भपात होना।
5) Preterm Labor – प्रसव का समय से पूर्व हो जाना और अपरिपक़्व शिशु का जन्म होना।
6) Abruptio Placentae – नाल का प्रसव से पूर्व जगह छोड़ देना और गर्भाशय में खून का जमा होना।
7) PROM – Preterm Rupture of Membranes -भ्रूण के आस -पास की झिल्ली का प्रसव के समय से पहले फट जाना और (Amniotic Fluid )भ्रूण आवरण द्रव  का निकल जाना।
गर्भाशय की जन्मजात  संरचनात्मक विकृतियां होती ही क्यों हैं – 
-यह जानने के लिए सबसे पहले आइए देखते हैं कि भ्रूणावस्था में गर्भाशय की रचना कैसे होती है और उस प्रक्रिया में क्या कमी रह जाए तो संरचनात्मक विकृतियां सामने आती हैं
-भ्रूणावस्था में भ्रूण के शरीर के निचले भाग में दोनों तरफ एक-एक Mullerian Duct -मुल्लेरियन डक्ट की रचना होती है। यह एक खोखले नलकी (Tube ) जैसी संरचना है
-समय के साथ यह नलकियाँ पास आती जाती हैं। अन्ततः ये दोनों नलियाँ एक दूसरे से जुड़ जाती हैं ,इनके बीच की दीवार मिट जाती है। गर्भाशय की गुहा (cavity ) की स्थापना हो जाती है। इसी गुहा में भ्रूण का आकर ठहरना और उससे शिशु का बनना तय है।
-अगर मुल्लेरियन डक्ट ठीक से बने नहीं, या जुड़े नहीं ,या उनके बीच की दीवार ठीक से मिटे नहीं, तब गर्भाशय की जन्मजात विकृतियों उत्पन्न होती हैं -Congenital Malformations of Uterus
-इन सभी जन्मजात विकृतियों की तीव्रता का पैमाना हर एक मरीज़ में अलग अलग हो सकता है।
-कभी विकृतियाँ सम्पूर्ण होती हैं और कभी अपूर्ण।
कुछ विकृत गर्भाशयों के नामों की सूची हम यहां बता देते हैं -List of Some Uterine Anomalies 
1) Bicornuate Uterus – दोनों नलकियाँ भी अलग हैं ,दोनों गुहाएँ भी अलग हैं
2) Hemicornuate Uterus /Unicornuate Uterus -केवल एक ही तरफ़ की नलकी बनी है पर उसमें गुहा भी है
3) Septate Uterus -Complete or Partial -दोनों नलकियाँ मिली तो सही पर उनके बीच की दीवार मिटी नहीं।  इसकी विविधताएं हैं- सम्पूर्ण या अपूर्ण।
4) Aplastic Uterus – दोनों नलकियाँ पूरी तरह से अनुपस्थित हैं।
एक युवती की विभिन्न आयुओं में इन  विकृतियों का प्रस्तुतीकरण कैसे भिन्न -भिन्न प्रकार से होता है ,आइये देखते हैं। 
A) अल्प युवावस्था (Early Puberty ) में होने वाले लक्षण –
-मासिक धर्म के समय भयंकर दर्द होना
B) प्रजनन काल ( Reproductive  Age )में होने वाले लक्षण –
1) बारंबार अल्पकालीन गर्भपात होना (Recurrent early pregnancy loss )
2) अपरिपक्व प्रसूती ( Preterm labor )
3) असामयिक गर्भ झिल्ली का टूटना (Premature rupture of membranes )
4) शिशु का पैर की तरफ से जन्म लेने  स्थिति में होना ( Breech Presentation )
5) बाधित प्रसूति (Obstructed labor )- जन्म प्रक्रिया के समय शिशु का रास्ते में ही अटक जाना
6) गर्भाशय के एक तरफ़ा मौलिक सींग में गर्भावस्था का ठहर जाना (Cornual pregnancy in rudimentary horn of the uterus )
गर्भाशय की संरचनात्मक विकृतियां- और प्रतिशत संभावनाएं 
1) बंधत्व (Infertility )- ५%
2) बारंबार  गर्भपात होना -७.५ %
भिन्न भिन्न प्रकार की विकृतियों के साथ गर्भस्थ शिशु के विभिन्न प्रस्तुतिकरण -(Different presentations of fetus in  different uterine anomalies )
1) –द्वी -सींग गर्भाशय (Bicornuate uterus )-मस्तक के बल (Cephalic presentation )

2) पर्दामय गर्भाशय (Septate uterus ) –शिशु का पैर की तरफ से जन्म लेने  स्थिति में होना ( Breech Presentation )

3) धनुषाकार गर्भाशय (Arcuate uterus )- शिशु का आड़ी तरह से गर्भाशय में लेटा होना (Transverse Lie )
4) एकमेव सींग वाला गर्भाशय (Unicornuate Uterus )-शिशु के हाथ का गर्भाशय से लटकना (Hand Prolapse )
गर्भाशय की विकृतियां और कृत्रिम प्रजनन तरीकों की सहायता से ठहराया गया गर्भ (Assisted Reproductive Techniques ) -आगे क्या होगा 
1) गर्भावस्था की दर का कम होना (Lower  Pregnancy Rate )
2) गर्भावस्था की पहली तिमाही में स्वभाविक रूप से होने वाले और चूक गये  गर्भपात की उच्च दर (Higher rate of spontaneous and missed abortion/miscarriage  )
क्या कर सकते हैं 
१) पर्दामय गर्भाशय (Septate uterus ) – की स्थिति में -अगर शल्य क्रिया (Operation ) कर के पर्दे को निकाल देंगे (Septoplasty ) तो गर्भ के ठहरने और आगे जाने की संभावना बढ़ जायेगी।
-आजकल यह ऑपरेशन दूरबीन विधि से होता है (Hysteroscopic Resection of Septum )
-अगर बिना इस शल्य क्रिया को  किये कृत्रिम प्रजनन तरीकों की सहायता से अगर गर्भ ठहरा भी दिया गया तो     ७० % सम्भावना है कि या तो गर्भपात हो जाएगा या फिर समय पूर्व प्रसव हो जाएगा
२) हालांकि एकमेव सींग वाला गर्भाशय (Unicornuate Uterus )की स्थिति सबसे दुर्लभ( Rare)  है पर इस अवस्था में गर्भ के नुकसान की (Pregnancy Loss ) संभावना सबसे ज़्यादा है।
महत्तम दर ५० फीसदी (50 %) तक हो सकती है।
जबकि बाकी विकृतियों में नुकसान की दर ५-१३ % तक है।
-एकमेव सींग वाला गर्भाशय (Unicornuate Uterus ) अगर मासिक धर्म के समय बहुत दर्द दे रहा है तो दूरबीन विधि से उस सींग को निकाला जा सकता है (Laparoscopic Removal of Non -Communicating Rudimentary Horn of Uterus )
३) द्वी -सींग गर्भाशय (Bicornuate uterus )
सबसे आमतौर (Common ) पर पायी जाने वाली विकृति है।
-औरत को इसमें गर्भ ठहरने में कोई कठिनाई नहीं होती।
-सामान्यतः इन औरतों को गर्भावस्था के दौरान कोई खास इलाज की ज़रुरत नहीं होती
-गर्भाशय के मुहँ (ग्रीवा) को गैर शोषक टांका      (Cervical Cerclage Using Non – Absorbable Suture Material )देने से कितना फायदा होगा – यह भी स्पष्ट नहीं है।
-अगर बारम्बार गर्भपात या समय पूर्व प्रसव (Preterm Delivery ) हो रही है तो गर्भाशय के दोनों सींगों को संयुक्त करने की  दूरबीन द्वारा  शल्य क्रिया (Laparoscopic Metroplasty ) ज़रूर से मरीज़ को सहायता करेगी।
४) धनुषाकार गर्भाशय (Arcuate uterus )- की वजह से गर्भ को कोई भी नुक्सान नहीं होता है अतः इस विकृति को एक मौके पर मिली खोज (Chance Finding ) समझ कर छोड़ देना चाहिये।  किसी भी तरह के उपचार या शल्य क्रिया की कोई ज़रुरत नहीं है।
आप कोई भी निर्णय लें ,अपने गायनेकोलॉजिस्ट (Gynecologist ) डॉक्टर की सलाह से ही लें।
स्वस्थ रहें ,सुखी रहें

To know more log on to my website-

www.mygynaecworld.com


By
Dr Himani Gupta
Gynaecologist & Obstetrician
Director-My Gynaec World

Official Head Quarter
Mother ‘n’ Care Clinic
Row House F 44/32
First Floor
Near Shivaji Chowk
Sector 12-Kharghar, Navi Mumbai

Ph  +91-7506027299

Email-mygynaecworld@gmail.com

List of our attachment hospitals-

Motherhood Hospital,Utasav Chowk, Plot -No-5, Sector -7, Kharghar, Navi`Mumbai

Kharghar Medicity Hospital,Aum Sai CHS, Plot NO – C/23 Sector 7, Kharghar, Navi Mumbai

Sanjeevan Hospital,Plot No. F/14, Opp. State Bank of Hyderabad,Sector-12, Kharghar,Navi Mumbai
Om Navjeevan Hospital,Plot No.2, Sector-21. Kharghar, Navi Mumbai


People from following locations of Navi Mumbai and Raigad can approach us for Gynaecology related advise

-Kharghar,Kamothe,Kalamboli,Panvel,Road Pali,CBD Belapur,Seawoods,Nerul,Vashi, Sanpada, Juinagar, Khanda Colony, Taloja

Gynecologist Near Me-Kharghar,Chronic Ectopic-A Difficult Case Presentation

A 40 year old woman, resident of Road Pali, Kharghar,Navi Mumbai, presented with severe lower pain abdomen and history of missed periods.



 

She is a mother of 3 children

15 days back she had a bout of abdominal pain which she thought was due to ‘Gas’ and didn’t pay attention.

Her last period was scanty.

What must have happened medically, was that she had an ‘Ectopic pregnancy’ at that time in the Fallopian tube.There was a rupture of Tube but it was not of severe variety and got contained by way of forming of clot Intra-Abdominally

On the day of the presentation, the bleeding started again but now it was not stopping.

Such a bleeding if not controlled timely, can be a life threatening event.

As you can see by the pictures of the operation that it was not a straight froward case.

There were lots of adhesions among Fallopian tube and parieties.

A bloody and messy adhesiolysis was required.

Plenty of blood clots were removed.

Abdominal drain was kept on post operative period.

Prolonged convalescence, antibiotics, Injectable Methotrexate, Folinic Acid,serial monitoring of Beta HCG levels, all became part of her recovery.

There were escalation of hospital stay and costA simple and responsible use of regular contraceptive method would have avoided all these problemsTo know more log on to my website-

www.mygynaecworld.com


By
Dr Himani Gupta
Gynaecologist & Obstetrician
Director-My Gynaec World

Official Head Quarter
Mother ‘n’ Care Clinic
Row House F 44/32
First Floor
Near Shivaji Chowk
Sector 12-Kharghar, Navi Mumbai

Ph  +91-7506027299

Email-mygynaecworld@gmail.com

List of our attachment hospitals-

Motherhood Hospital,Utasav Chowk, Plot -No-5, Sector -7, Kharghar, Navi`Mumbai

Kharghar Medicity Hospital,Aum Sai CHS, Plot NO – C/23 Sector 7, Kharghar, Navi Mumbai

 
Sanjeevan Hospital,Plot No. F/14, Opp. State Bank of Hyderabad,Sector-12, Kharghar,Navi Mumbai
 

Om Navjeevan Hospital,Plot No.2, Sector-21. Kharghar, Navi Mumbai


People from following locations of Navi Mumbai and Raigad can approach us for Gynaecology related advise


-Kharghar,Kamothe,Kalamboli,Panvel,Road Pali,CBD Belapur,Seawoods,Nerul,Vashi, Sanpada, Juinagar, Khanda Colony, Taloja
 










Gynaecologist in Kharghar

http://gynaecologistinkharghar.blogspot.in/                        

Gynecologist Near Me-Kharghar,Chronic Ectopic-A Difficult Case Presentation
A 40 year old woman, resident of Road Pali, Kharghar,Navi Mumbai, presented with severe lower pain abdomen and history of missed periods.



She is a mother of 3 children15 days back she had a bout of abdominal pain which she thought was due to ‘Gas’ and didn’t pay attention.Her last period was scanty.What must have happened medically, was that she had an ‘Ectopic pregnancy’ at that time in the Fallopian tube.There was a rupture of Tube but it was not of severe variety and got contained by way of forming of clot Intra-AbdominallyOn the day of the presentation, the bleeding started again but now it was not stopping.Such a bleeding if not controlled timely, can be a life threatening event.As you can see by the pictures of the operation that it was not a straight froward case.There were lots of adhesions among Fallopian tube and parieties.A bloody and messy adhesiolysis was required.Plenty of blood clots were removed.Abdominal drain was kept on post operative period.Prolonged convalescence, antibiotics, Injectable Methotrexate, Folinic Acid,serial monitoring of Beta HCG levels, all became part of her recovery.There were escalation of hospital stay and costA simple and responsible use of regular contraceptive method would have avoided all these problemsTo know more log on to my website-

www.mygynaecworld.com


By
Dr Himani Gupta
Gynaecologist & Obstetrician
Director-My Gynaec World

Official Head Quarter
Mother ‘n’ Care Clinic
Row House F 44/32
First Floor
Near Shivaji Chowk
Sector 12-Kharghar, Navi Mumbai

Ph  +91-7506027299

Email-mygynaecworld@gmail.com

List of our attachment hospitals-

Motherhood Hospital,Utasav Chowk, Plot -No-5, Sector -7, Kharghar, Navi`Mumbai

Kharghar Medicity Hospital,Aum Sai CHS, Plot NO – C/23 Sector 7, Kharghar, Navi Mumbai

 
Sanjeevan Hospital,Plot No. F/14, Opp. State Bank of Hyderabad,Sector-12, Kharghar,Navi Mumbai
 

Om Navjeevan Hospital,Plot No.2, Sector-21. Kharghar, Navi Mumbai


People from following locations of Navi Mumbai and Raigad can approach us for Gynaecology related advise


-Kharghar,Kamothe,Kalamboli,Panvel,Road Pali,CBD Belapur,Seawoods,Nerul,Vashi, Sanpada, Juinagar, Khanda Colony, Taloja
 










Abortion By Pills in Kharghar

http://abortionbypillsinkharghar.blogspot.in/

Why do unmarried couples lie about their relationship when faced with unwanted pregnancy

So many times, it has been our experience that a consultation is sought by unmarried couple for unwanted pregnancy.

But they will not reveal the true status of their relationship.

The man in question invariably will pose as a brother or a cousin or a friend, pretending to be helping our the troubled sister or friend.

To our experienced eye, they don’t escape, but they surely make our job of counselling difficult.

If they would speak the truth, assessment of social circumstances will be easier for us which makes a very important part of management.

To know more log on to my website-

www.mygynaecworld.com


By

Dr Himani Gupta

Gynaecologist & Obstetrician

Director-My Gynaec World


Official Head Quarter

Mother ‘n’ Care Clinic

Row House F 44/32

First Floor

Near Shivaji Chowk

Sector 12-Kharghar, Navi Mumbai


Ph  +91-7506027299


Email-mygynaecworld@gmail.com


List of our attachment hospitals-


Motherhood Hospital,Utasav Chowk, Plot -No-5, Sector -7, Kharghar, Navi`Mumbai


Kharghar Medicity Hospital,Aum Sai CHS, Plot NO – C/23 Sector 7, Kharghar, Navi Mumbai

Sanjeevan Hospital,Plot No. F/14, Opp. State Bank of Hyderabad,Sector-12, Kharghar,Navi Mumbai

Om Navjeevan Hospital,Plot No.2, Sector-21. Kharghar, Navi Mumbai



People from following locations of Navi Mumbai and Raigad can approach us for Gynaecology related advise

-Kharghar,Kamothe,Kalamboli,Panvel,Road Pali,CBD Belapur,Seawoods,Nerul,Vashi, Sanpada, Juinagar, Khanda Colony, Taloja

 

http://abortionbypillsinkharghar.blogspot.in/

असली लोग असली अनुभव- गर्भ में पानी कम होना और बच्चे की जान को खतरा-Oligohydramnios & It’s Complications

असली लोग असली अनुभव- गर्भ में पानी कम होना और बच्चे की जान को खतरा-Oligohydramnios & It’s Complications

एक 24 वर्षीया विवाहित औरत ,कलंबोली ,न्यू पनवेल की निवासी हमारे एक डॉक्टर के पास पिछले 9 महीने से अपनी पहली प्रेगनेंसी का इलाज कर रही थी।

उसकी डिलीवरी की तारीख भी नज़दीक ही थी।

नौवें महीने में हम एक सोनोग्राफी कर के बच्चे की सेहत के बारे में जानकारी करते हैं।

उसकी भी यह सोनोग्राफी की गई।

पर कुछ बात ऐसी सामने आई की एक नार्मल चलता हुआ केस तुरंत ही इमरजेंसी केस में बदल गया।

गर्भ में बच्चे के आस पास का जो पानी होता है वह बिलकुल ही सूख गया था।

सामान्यतः जो मात्रा 8 -10 सेंटीमीटर होती है ,वह घट कर सिर्फ 3 रह गयी थी।

यह चिंताजनक बात है क्योंकि वह पानी एक सुरक्षा कवच का काम करता है।

जब प्रसव का दर्द होता है तो यह पानी आँवल नाल को दबने से बचाता है और अजन्मे बच्चे को ऑक्सीजन मिलना जारी रहता है।

इस केस में हमें तुरंत सीज़ेरियन डिलीवरी का निर्णय लेना पड़ा ताकि आंवल नाल दबने के भयंकर परिणाम ना सामने आएं।

एक सुन्दर बेटी के जन्म से माँ और पिता दोनों ही बहुत खुश हो गए।

To know more log on to my website-

www.mygynaecworld.com

By

Dr Himani Gupta

Gynaecologist & Obstetrician

Director-My Gynaec World


Official Head Quarter

Mother ‘n’ Care Clinic

Row House F 44/32

First Floor

Near Shivaji Chowk

Sector 12-Kharghar, Navi Mumbai


Ph  +91-7506027299


Email-mygynaecworld@gmail.com


List of our attachment hospitals-


Motherhood Hospital,Utasav Chowk, Plot -No-5, Sector -7, Kharghar, Navi`Mumbai


Kharghar Medicity Hospital,Aum Sai CHS, Plot NO – C/23 Sector 7, Kharghar, Navi Mumbai

Sanjeevan Hospital,Plot No. F/14, Opp. State Bank of Hyderabad,Sector-12, Kharghar,Navi Mumbai

Om Navjeevan Hospital,Plot No.2, Sector-21. Kharghar, Navi Mumbai



People from following locations of Navi Mumbai and Raigad can approach us for Gynaecology related advise

-Kharghar,Kamothe,Kalamboli,Panvel,Road Pali,CBD Belapur,Seawoods,Nerul,Vashi, Sanpada, Juinagar, Khanda Colony, Taloja

असली लोग असली अनुभव – क्या औरतों के कैरियर की कोई महत्ता नहीं

असली लोग असली अनुभव – क्या औरतों के कैरियर की कोई महत्ता नहीं 

एक 24 वर्षीया विवाहित कामकाजी  युवती जो रोड पाली पनवेल ,नवी मुंबई की निवासी थी ,  हमारे एक डॉक्टर से  सलाह लेने आई।

उसको गर्भ ठहर गया था और अभी ज़्यादा समय भी नहीं हुआ था।

गर्भपात की गोलियां उसपर असर कर सकती थीं।

पर पति तो साथ नहीं थे।

पूछने पर बताया की उन्होंने कलकत्ता शहर ट्रान्सफर लिया हुआ है क्योंकि उनकी कम्पनी ने उन्हें प्रमोशन दिया।

ये लो ! पत्नी के साथ रहना छोड़ दो प्रमोशन नहीं।

अब पत्नी का भी प्रमोशन होने वाला है पर गर्भधारण की अवस्था में वह उसे हाँ नहीं कह सकती।

उसे भी अपना कैरियर बहुत प्यारा है।

पर पति क्या और माँ बाप क्या सब उसे हैरान कर रहे हैं और प्रमोशन छोड़ सिर्फ गर्भ /बच्चा पैदा करने और माँ बनने की ही सलाह दे रहें हैं और मजबूर भी कर रहें हैं।

ये सही बात नहीं है – पति का कैरियर सब कुछ और पत्नी का कुछ नहीं।

उसकी बात भी नहीं सुनी जा रही।

उसके मानसिक तनाव का प्रेगनेंसी पर भी असर पड़  सकता है।

असली लोग असली अनुभव – क्या लोग लड़की भी पैदा करना चाहते हैं

असली लोग असली अनुभव – क्या लोग लड़की भी पैदा करना चाहते हैं 

एक कामोठे ,पनवेल की निवासी 32 वर्षीया औरत की कुछ दिनों पहले हमारे एक डॉक्टर के पास cesarean-(सीज़र ) डिलीवरी हो गयी और उसके यहां एक कन्या ने जन्म लिया।

उसको पहले एक लड़का है जो 9  वर्ष का है.

उसकी ख़ुशी का ठिकाना ना रहा  और उसके घर के लोग भी अत्यधिक खुश थे।

पूछने पर उन्होंने बताया की उस परिवार की तीन पुश्तों में कोई लड़की नहीं जन्मी थी।

दादा भी चार भाई।

पिता भी तीन भाई।

और इन तीनों भाइयों के पास भी बस लड़के ही लड़के।

काफी आश्चर्यजनक पर सत्य।

इस कन्या को कितना लाड- प्यार मिल रहा है और कितना आगे मिलेगा ,इसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते।

असली लोग -असली अनुभव – कम उम्र कामकाजी युवतियां और भयंकर मोटापा

असली लोग -असली अनुभव – कम उम्र कामकाजी युवतियां और भयंकर मोटापा 

 

खारघर, नवी मुंबई  निवासी एक अत्यधिक मोटापे से ग्रस्त एक युवती के बारे में आज बात करेंगे।

हमारी दिन भर की OPD में आजकल यह समस्या बहुत सामने आ रही है।

कम उम्र में ही लड़कियाँ अपनी पढ़ाई पूरी कर किसी दूसरे और बड़े  शहर में आ कर नौकरी करने लग जाती हैं।

रहने का ठिकाना अमूमन हॉस्टल होता है।

खाना पीना ज़्यादा करके बाहर।

वो भी तला भुना ,बर्गर ,पिज़्ज़ा ,वड़ा पाव जैसी चीज़ें।

काम का समय लम्बा ,दूरियाँ ऑफिस तक की ज़्यादा -नतीजा -अपनी सेहत पर देने को वक़्त ही नहीं।

कसरत -व्यायाम तो भूल ही जाओ।

वज़न तो बढ़ता ही जाता है।

साथ में आती हैं माहवारी से सम्बंधित समस्याएँ।

अभी कुछ ही दिन पहले की बात है , एक युवती का वज़न निकला -137 किलो।

उम्र लगभग 28 साल।

डॉक्टर्स भी हैरान और मरीज़ परेशान , करें तो क्या करें।

Real people -Real experiences- Fear of HIV in young sexually active adults with multiple partners

Real people -Real experiences- Fear of HIV in young sexually active adults with multiple partners 

A 24 year old male , resident of Kalamboli, New Panvel, a budding Physiotherapist ,son of a known patient was sent to us by that patient as she came to known that he has had unprotected sexual intercourse with his girl friend a couple of months back.

Why she was worried- as the son in question was not keeping well for sometime.

Contracting frequent bouts of Diarrhea and stomach upset over last few weeks.They could have been signs of early HIV-AIDS

Now the girlfriend also has changed, and he is worried that he may have transferred his infection to this new girlfriend.

To make the matters more entangled, this GF also comes with a history of having a boyfriend in the past.

Do you get the picture now.

Not only it is necessary that your current partner is disease free, also all the previous partners of current partner would need to be disease free for you to have safe sexual intercourse with this one.

What a whole lot of mess.

Stress on all levels- mental, physical, financial.

Lucky for both of them, upon testing, he is found to have no HIV